20 March 2016

जो होता है अच्छा के लिए होता है ( Jo Hota hai Achche ke Liye Hota Hai )




Personal development article in hindi


  !! जो होता है अच्छे के लिए होता है !!



 Friends.....

 बहुत  बार  हमारी  life  में  ऐसी  problems   आती  है  ऐसी  मुश्किलें  आती  है  कि  हम  समझ  नहीं  पाते  है  कि  हमारे  साथ  ही  ऐसा  क्यों  हो  रहा  है  ???  इस  post  के  through  जो  story  मैं  आपके  साथ  share  करने  जा  रही  हूँ  इस  story  ने  मेरी  जिन्दगीं  में ,  मेरे  नजरिये  में  बहुत  बड़ा  change  लाया  है.....  तो  मैंने  सोचा  इस  post  के  through  आपके  साथ  भी  वो  story  जरुर  share  करू  ताकि  आपकी  life  में  भी  आपके  नजरिये  में  भी  बहुत  बड़ा  change  आए  .............


 एक  बार  एक  मंदिर  में  एक  सफाई  करने  वाला  सेवक  भगवानजी  की  तरफ  देखता  है,  भगवान  की  मूर्ति  की  तरफ  देखता  है  और  कहता  है -  “ भगवान  !  आप  bore  नहीं   हो  जाते  एक  ही  जगह  पर  खड़े-खड़े  , इतने  सालों  से  एक  ही  position  में  एक  ही  जगह  खड़े  हो  तो  मेरे  पास  एक  आईडिया  है  क्यों  न  हम  एक  दिन  के  लिए  role  reverse  कर  ले , क्यों  न  हम  role  exchange  कर  लें ,  रूप  exchange  कर  ले ,  आप  मेरे  रूप  में  एक  दिन  मेरी  जिंदगी  जी  के  देखो  और  मैं  आप  के रूप  में  एक  दिन  यहाँ  खड़े  हो  जाता  हूँ  | आप  भी  एक  दिन  छुट्टी  लो ,  आप  भी  एक  दिन  break  लो   आप  भी  एक  दिन  relax  लो | ”




 भगवान  जी  आगे  से  जवाब  देते  है – “यहाँ  खड़े  होना  इतना  आसन  नहीं  है,  तू  अपना  काम  कर  मुझे  अपना   काम   करने  दें |”  यहाँ  खड़े  होना  बहुत  मुश्किल  है  वो  सेवक  कहता  नहीं-नहीं  भगवान  जी  आप  जैसा  बोलोगे  मैं  वैसा  करूँगा |  आप  जैसे  बोलोगे  मैं  वैसे  खड़े  हो  जाऊंगा  लेकिन  आप  एक  दिन  के  लिए  मेरी  जिंदगी  जी  करके  देखो , एक  दिन के  लिए  आप  holiday  ले  कर  के  देखो  , तो  भगवान  जी  कहते  है – मैं  रूप  तो  exchange  कर  लूँगा |  मैं  तेरे  रूप  में  आ  जाऊंगा  तू  मेरे  रूप  मैं  आ  जा  लेकिन  मेरी  एक  instruction  याद  रखना  तुझे  मूर्ति  बनके  खड़े  रहना  है  लोग  कुछ  भी  बोले  कुछ  भी  कहे  कोई  अपना  दुःख  सुनाए ,  कोई  अपनी  तकलीफ  सुनाए  कोई  कुछ  तुझ  से  मांगे  , तुझे  सिर्फ  मूर्ति  बन  के  खड़े  रहना  है  तुझे  कोई  interference  नहीं  करना  है  ,  तुझे   कुछ  नहीं  बोलना  मेरे  पास  सब  की  planning  है  ,  तुझे  बस  खड़े  रहना  है |”  


 सेवक  कहता  done  भगवान  जी  मंजूर  है |  सेवक  मूर्ति  बन  कर  खड़े  हो  जाता  है  और  भगवान  जी  उसके  रूप  में  relax  करने , अपनी  एक  दिन  की  छुट्टी  मनाने      निकल  जाते  है | अब  ये  सेवक  भगवान  जी  की  मूर्ति  के  रूप  में  मंदिर  में  खड़ा  है  और  पहला  भक्त  आता  है  जो  की  एक  business  man  है ,  वो  business  man  भगवान   के  आगे  माथा  टेकता  है  और  कहता  “ हे  भगवान  !  मेरी  दौलत  और  बढ़ाना , मेरे  पैसे  और  बढ़ाना , मेरी  शानोशौकत  और  बढाना ,  मैं  एक  नई  factory  लगा  रहा  हूँ  उस  पर  भी  अपनी  किरपा  बनाए  रखना  |”  


 हे  भगवान  !  और  आगे  माथा  टेकता  है  और  जब   उठता  है  अपना  wallet  वहीँ  भूल  जाता  है,  अपना  wallet   वही  भूल  के  वो  business  man   निकल  जाता  है  |  ये  देख  के  मूर्ति  के  रूप  में  खड़े  उस  सेवक  को  बड़ी  घबराहट  होती  है  बड़ी  irritation  होती  है  की  उसका  wallet  रह  गया  उसका  मन  करता  है  की  उसको  आवाज  दे   दूँ  की  तेरा  wallet  रह  गया  लेकिन  उस  को  याद   आता  है  की  ,  भगवान  जी  ने  उससे  कहा  था  की  तुझे  हिलना  नहीं  है  ,  तूने  कुछ   नहीं  बोलना    है  |  जो  होता  बस  देखते  रहना  है  तो  वो  सेवक  बिना  कुछ  बोले  मूर्ति  के  रूप  में  खड़ा  रहता  है  |




 इतने  में  दूसरा  भक्त  आता  है   जो  एक  गरीब  आदमी  है  वो  एक  रूपया  भगवान  के    आगे  चढ़ाता  है  और  कहता  है  –  “भगवान  !  मेरे  पास  बस  एक  रूपया  ही  था  वो  भी तुझे  चढ़ा  दिया  |  मेरे  घर  में  बहुत  परेशानी  है ,  बहुत  गरीबी   है  , दवाई  की  जरुरत  है  |”  हे  भगवान  !  कुछ  ऐसा  कर  कुछ  कृपा   कर , वो  माथा  टेकता  है  और  जब  आँखे  खोलता  है  तब  उसकी  नजर  उस  wallet   पर  पड़ती  ,  जो  business  man  का  wallet  रह  गया  था  | वो  कहता  ,  “हे  भगवान  ! तेरा  शुक्र  है  तूने  मुझे  ये  पैसे  दे  दिए  ,शुक्र  है  भगवान  शुक्र  है ”,  वो  wallet  लेकर  के  वो  गरीब  आदमी    निकल  जाता  है  |  इतने  में  सेवक  को  और  घबराहट  होती  है  की  उसका  wallet  इस  ने  चोरी  कर  लिया  ,  मैंने  तो  दिया  नहीं  उसको  और  problem  होती  है  वो  कहता  है –  “काश  !  मैं  ये  रोक   सकूँ  , पर  भगवान    ने मुझे  ये  बोला  है  कि  तुझे  हिलना  नहीं  है  तो  मैं  कुछ  नहीं  कर  सकता  |   I  can  only  wait  and  watch........   so , वो   सेवक किसी  तरह  अपनी  घबराहट  को , irritation  को  control  करता है ,  रोकता  है और मूर्ति के  रूप  में  खड़े  रहता  है  |



 इतने  में  तीसरा  भक्त  आता  है  , एक  sailor  आता  है  एक  नौका  चालक  आता  है ,  वो  sailor  भगवान  के   आगे   माथा  टेकता  है  और  कहता  है  की  हे  भगवान  !  मैं  अगले  15  दिन  के  लिए  अपने  ship  को  लेकर  अपने  जहाज  को  लेकर  काम  पे  जा  रहा हूँ  |  अपनी  कृपा  मेरे  पर  बनाए   रखना  , वो  माथा  टेक  रहा  होता   है  इतने में  वो business  man  जिसका  wallet  वहां  रह  गया  था   वो  पुलिस  लेके  आ  जाता  है  | वो  कहता  है  मेरे  बाद  तो  ये  आया  है  इस  को  arrest  कर  लो  और  पुलिस  उस  sailor  को  चोरी   के  जुर्म  में  arrest  कर  लेती  है  |  अब  ये  देख  के  सेवक  कहता  है - अब  मुझसे  और   नहीं   रुका    जाएगा  , अगर  भगवान  भी  मेरी  जगह  होते  तो  इतनी  नाइंसाफी  नहीं  देखते |  enough is  enough !





 अब  मुझे  बोलना  ही  पड़ेगा  तो  वो  मूर्ति  के  रूप  में  खड़ा   सेवक  बोल  पड़ता  है ,  excuse  me !  मैं  भगवान  हूँ  मैंने  देखा  है  क्या  हुआ  है |  इस  business  man  का  wallet  उस  गरीब  आदमी  ने   चुराया  है  उसे  arrest  करो  , sailor  का  कोई  कुसूर  नहीं  है  इस  को  छोड़  दो , इसे  अपने  business  tour  पे  जाना  है |  तो  पुलिस  कहती  है  -  भगवान  जी  खुद  बोल  पड़े  , तो  पुलिस   उस  गरीब  आदमी  को  arrest  कर  लेती  है  | उस  business  man  का  wallet  उसको  वापिस  मिल  जाता  है  और  जो  sailor  है  वो  आपनी  ship  लेकर  जाने  के  लिए  तैयार  हो  जाता  है  और  सेवक  वापिस  मूर्ति  के  रूप  में  खड़े  हो  जाता  है  फिर  शाम  हो  जाती  है   और  भगवान  जी  वापिस  आ  जाते  है  |


 भगवान  जी  वापिस  आकर  उससे  पूछते  है  – “hey what’s up !  कैसा  रहा  दिन  ???”  तो  सेवक  कहता  है  भगवान  जी  मैं  आपको  दिन  के  बारे  में  बताता  हूँ  आप  खुश  हो   जाओगे  |  मैंने  इतना  अच्छा   काम  किया  पता  है ,  कितनी  बड़ी  नाइंसाफी  हो    रही  थी  और  मैंने  रोक  ली  |  सेवक  उनको  अपने  पूरे   दिन  की  बात  बताता   है ,  वो  तीनों  भक्तों  की  बात  बताता  है  की  कैसे  उसने  गलत  चीजों  को  सही  कर  दिया  | भगवान  जी  उसके  पूरे  दिन  की  कहानी  सुन  करके  कहते  है   कि  तूने  काम  सुधारा  नहीं  है ,  तूने  काम  बिगाड़  दिया  , तुझे   बोला  था  की  कुछ  नहीं  बोलना  है ,  तुझे  बोला  था  की  मूर्ति  बनकर  खड़े  रहना  है  तो ,  फिर  तू  क्यों  बोला  ???  अब  सुन  मेरी  planning  जो  तेरी  सोच  से  भी  बाहर  थी |


 जो  पहला  भक्त  आया  था  ना  business  man  उसकी  सारी  दौलत  सारी   कमाई  बईमानी  की  है  और  अगर  उसके  कुछ  पैसे  उस  गरीब  के  घर  चले  जाते  तो  business man  का  पाप  थोडा  कम  हो  जाता  और  वो  गरीब  हमेशा  लोगों  की  सेवा   करता  है | जितने  पैसे  उसके  पास  बचते  थे  वो  सेवा  में  लगा  देता  था  तो  उस  business  man  का थोडा पाप  कम हो जाता और उसके कुछ पैसे सही जगह चले जाते and most important वो जो  sailor  है  नौका  चालक  है  वो  जिस  तरफ  जा  रहा  है  ना  उस  समुन्दर  में  बहुत  बड़ा  तूफान  आने  वाला  है  जिसमे  वो  बचेगा  नहीं  अगर  वो  sailor  जेल  में   होता  तो  वो  मरने  से  बच   जाता |  उसके  बच्चे  अनाथ  होने  से  बच  जाते  उसकी  बीवी  विधवा  होने  से  बच  जाती  और  उस  business  man  का  पाप  भी  कम  हो  जाता  और  उस  गरीब  के  घर  में  रोटी  भी  चली  जाती  |


loading...

Moral :-  ऐसा   हमारे  life में  बहुत  बार  होता  है  की  हमारी  life  में  problems  आती  है  और  हम  सोचते  है  की  इसमें  अच्छा  क्या  है  हमें  लगता  है  हमारे  साथ  इतना बुरा   क्यों  हो  रहा  है  ???  क्योंकि  कहीं  न  कहीं  हमारी  सोच  से  भी  ऊपर  है उसकी  planning....

So  Friends ,  आज  के  बाद  आप  की  life  में  जब  भी  कोई  problem  आए  जब  भी   कोई  मुश्किल  आए  तो  उदास  मत  होना इस   story  को  याद  करना  मुस्कुराना  और  समझ जाना  की  

life  में  जो  होता  वो  अच्छे  के  लिए  होता  है ,  life   में  जो  हो ता  वो  अच्छे के  लिए  होता  है  ,  life  में  जो  होता  वो  हमारे  फायदे  के  लिए  होता  है......


इस  दुनिया  में  ऐसे  बहुत  से  लोग  है  जो  किसी  न  किसी  problem  से  परेशान  है  मुझे लगता  है  इस  story  की  ऐसे  हर  इन्सान  को  जरुरत  है  ताकि  वो  और  strong  बन  सके और  patience  रख  सके  |  अगर  आप  को  भी  ऐसा  लगता  है  तो  इस  post  को  आपने friends  के  साथ  share  जरुर  करना  ताकि  हम  लोगों  की  जिंदगी  में  और  खुशियाँ  ला सके |




Also read :- सबसे बड़ा रोग - क्या कहेंगे लोग ????? 



                                  ……………………………………………………………………………..

निवेदन :- कृपया   अपने   comments   के   माध्यम   से   जरुर   बताएं   की   आपको    यह  post   कैसा     लगा     ‌‍‌‍.........   और   यदि   आपको   यह post   पसंद   आया     तो   please   इसे   अपने   friends   के   साथ   जरुर   share   करे   |

 

यदि    आपके    पास    हिंदी    में    कोई    good   article,    poem, inspirational story, या  जानकारी  है , जो  आप  हमारे  साथ  share  करना  चाहते  है,  तो  कृपया हमसे contact करे (Contact Us) ,  पसंद  आने  पर   हम  उसे  आप  के  नाम  और  photo  के  साथ  यहाँ  publish  करेंगे , Thanks !





2 comments: